सुना है वो आजकल आइना नहीं देखती ,
हाँ अपने आप से भागना मुश्किल तो होता है

हमे परेशान करके खुद परेशान कितना है ,
सब कुछ जानकर भी अनजान कितना है ,
वो कहती है की मिल ना पाउगी मै तुम्हे ,
की सपनो की सचाई का जहाँ कितना है ,
मै कहता हूँ की जो सपने देखी मैने उन का हकीकत से नाता है ,
देखता हूँ की किस्मत मै इंतज़ार कितना है ,
 
Share To:
Next
Newer Post
Previous
This is the last post.

Abhishek bhatnagar

Hi i am abhishek bhatnagar form moradabad , working as freelancer for various project and also having great intrest in astrology ... Send your queries

check my website
www.abhishekbhatnagar.in

Post A Comment: